Tuesday, November 30, 2021

एडमिशन के नाम पर रीवा के डॉक्टर से दिल्ली में 42 लाख 50 हजार की ठगी, गैग का एक सदस्य गिरफ्तार

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram
एडमिशन के नाम पर रीवा के डॉक्टर से दिल्ली में 42 लाख 50 हजार की ठगी, गैग का एक सदस्य गिरफ्तार
रीवा। डॉक्टर की उच्च पढ़ाई के लिये एडमिशन दिलाने के नाम पर रीवा के डॉक्टर से दिल्ली में ठगी किये जाने का सनसनी खेज मामला सामने आया है। शिकायत के आधार पर पुलिस ने ठग गैंग के सदस्य ललित गुप्ता निवासी रोहतक को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है।

42 लाख 50 हजार की ठगी
ठगी मामले की जानकारी देते हुये एडिशनल एसपी शिवकुमार वर्मा ने बताया कि रीवा के चोरहटा निवासी डॉक्टर राघुवेन्द्र तिवारी ने एसपी राकेश सिह के पास आवेदन देकर बताया कि डॉक्टर की पीजी पढ़ाई के लिये एडमिशन लेने वह दिल्ली के एक कार्यालय से सर्म्पक किया था। उसने अलग-अलग किश्तों में अब तक 42 लाख 50 हजार रूपये लिये और उसे एलाटमेन्ट लेटर तथा रसीद दिये थे। शिकायत कर्त्ता ने बताया कि ठगराजों द्वारा जो दस्तावेज दिये गये वह फर्जी था। उसमें न तो डीन के हस्ताक्षर थें और न ही कोई पुख्ता प्रमाण।

चोरहटा पुलिस ने किया गिरफ्तार
धोखाधड़ी के इस मामले में चोरहटा थाना की पुलिस ने मामला दर्ज करके आरोपित ललित गुप्ता को दिल्ली से गिरफ्तार किया है, जबकि उसका साथी विशाल अभी फरार है। पुलिस पकड़े गये आरोपित से पूछताछ कर रही है। जिससे देश भर में चल रहे डॉक्टर सहित अन्य पढ़ाई में एडमिशन के नाम पर ठग गिरोह का पर्दाफास हो सके। पुलिस का कहना है कि इस कार्य में कई मेडिकल कालेज संचालको की भी साठगांठ हो सकती है। बहरहाल पुलिस तह तक जाने के लिये जांच कर रही है।

दिल्ली में संचालित हो रही थी ऑफिस
शिकायत कर्त्ता राघुवेन्द्र तिवारी ने पुलिस को बताया कि वह वर्ष 2013 में एमबीबीएस की पढाई किया था। वह दिल्ली में संचालित आफिस में पीजी प्रवेश के लिये एक वर्ष से सम्पर्क में था। जंहा ललित गुप्ता आदि ने उसे पीजी में प्रवेश दिलाने के लिये दिल्ली के मौलाना आजाद मेडिकल कालेज में उसका साक्षात्कार करवाये थे। जिससे उसे कम्पनी सही लगी और वह कम्पनी के लोगो की मांग पर पैसे जमा किये थे। कोरोना की बात कह कर उसे पहले एडमिशन के लिये इंतजार करवाया गया और फिर एडमिशन दस्तावेज दिलाने सहित पग-पग पर उससे पैसे लिये जा रहे थे। जिसके चलते वह 42 लाख रूपये से ज्यादा की रकम गंवा दिया। बताया जा रहा है कि ठगराज भारत ही नही नेपाल के मेडिकल कालेजों में भी में एडमिशन दिलाने के नाम पर डॉक्टरों से पैसे एठ रहे है।
close