Sunday, December 5, 2021

कृषि विधेयकों को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वीकार किया, अकाली दल के प्रमुख बादल ने इसे भारत के लिए ‘काला दिन’ कहा

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

 

राष्ट्रपति ने कृषि बिलों को स्वीकार किया, बादल ने इसे भारत के लिए ‘काला दिन’ कहा

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रविवार को संसद द्वारा पारित तीन विवादास्पद फार्म विधेयकों पर अपनी सहमति जताई ।

इस किसान विधेयकों का विरोध  विपक्ष तथा सत्ता में बैठी बीजेपी के गठबंधन वाली पार्टियों ने भी किया।

शिरोमणि अकाली दल इन विधेयकों के विरोध में NDA से अपना 22 साल पुराना रिश्ता तोड़ दिया है। शनिवार को उनके प्रेजिडेंट ने ये घोषणा  की थी अब अकाली दल NDA से बाहर हो रही है। 

यह कदम ऐसे समय में आया है जब किसान, विशेष रूप से पंजाब और हरियाणा के लोग, तीन बिलों का विरोध कर रहे हैं

किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक 2020

मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा विधेयक 2020

आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक 2020

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने इसे “काला दिन” कहा, राष्ट्रपतिजी ने ये काम राष्ट्र की अंतरात्मा के अनुसार नहीं किया ।

“यह वास्तव में भारत के लिए एक काला दिन है कि राष्ट्रपति ने राष्ट्र के विवेक के रूप में कार्य करने से इनकार कर दिया है। हमें बहुत उम्मीद थी कि वह इन बिलों को संसद में पुनर्विचार के लिए लौटा देंगे जैसा कि एसएडी और कुछ अन्य विपक्षी दलों द्वारा मांग की गई थी, ”बादल ने रूपनगर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए।

close