Tuesday, November 30, 2021

पाजिविटी रेट घटने पर लॉकडाउन जल्द खुलने की बढ़ रही उम्मीदें

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

——–
रीवा। कोराना संक्रमण की घटती रफ्तार ने लॉकडाउन खुलने की उम्मीदों को बढ़ाना शुरू कर दिया है। हर दिन मिलने वाले मरीजों की पाजिविटी रेट यदि इसी तरह कम होता रहा तो एक जून के बाद से क्रमिक रूप से लॉकडाउन खोलने को लेकर कोई निर्णय प्रशासन कर सकेगा। अन्यथा की स्थिति में लॉकडाउन के प्रतिबंधों को और भी बढ़ाया जा सकता है। इसलिए मई महीने के बचे हुए दिन काफी महत्वपूर्ण हैं। बीते कुछ दिनों से लगातार कोरोना का पाजिविटी रेट कम हुआ है। शुक्रवार को जारी किए गए हेल्थ बुलेटिन के अनुसार १५५९ लोगों का सेंपल जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें १२७ लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। इसमें पाजिविटी दर ८.१४ प्रतिशत रही है। कोरोना संक्रमण का पॉजिटिविटी रेट 10 मई के बाद लगातार गिरावट की ओर है। 10 मई को पॉजिटिविटी रेट 17.27 था, जो 20 मई को घटकर 9.87 प्रतिशत हो गया था और २१ मई को यह और नीचे आ गया। कोरोना के कुल मामलों
में भी गिरावट जारी है। पिछले 10 दिनों से जिले में पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या में लगातार गिरावट हो रही है। पिछले पांच दिनों से यह आकड़ा 150 के आसपास आ गया है। जिले में 15 मई को 1311 कोरोना नमूनों की जांच में 189 पॉजिटिव मिले। इसी तरह 16 मई को 1164 नमूनों की जांच में 170 तथा 17 मई को 1314 नमूनों की जांच में 168
पॉजिटिव रोगी पाये गये। जिले में 18 मई को 1403 नमूनों की जांच में 175 तथा 19 मई को 1468 नमूनों की जांच में
158 नमूने पॉजिटिव पाये गये जिले में 20 मई को 1499 नमूनों की जांच में 148 पॉजिटिव केस पाये गए थे।
– रिकवरी रेट में हुई बढ़ोत्तरी
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि कोरोना संक्रमितों का रिकवरी रेट 10 मई को 76.30 प्रतिशत था। इसमें लगातार वृद्धि दर्ज की गई। जिले में 11 मई को रिकवरी रेट 77.43 तथा 12 मई को 78.52 प्रतिशत रहा। इसमें कुछ दिनों तक गिरावट दर्ज की गई। जिले में 13 मई को रिकवरी रेट 80.11 प्रतिशत था। अब इसमें धीरे-धीरे वृद्धि हो रही है। जिले में 14 मई को रिकवरी रेट बढ़कर 80.43 प्रतिशत हो गया है। इसी तरह रिकवरी रेट 16 मई को 82.49 तथा 17 मई को 84.73 प्रतिशत हो गई है। जिले में रिकवरी रेट 18 मई को 85.69 प्रतिशत, 19 मई को 86.51 प्रतिशत तथा 20 मई को बढ़कर 87.28 प्रतिशत हो गई है। कोरोना संक्रमण को रोकने के उपाय धीरे-धीरे अपना असर दिखा रहे हैं।
————–
चार लोगों की मौत के बाद अंतिम संस्कार
संजयगांधी अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराए गए चार लोगों की मौत के बाद अंतिम संस्कार निर्धारित प्रोटोकाल के तहत कराया गया है। इसमें दो रीवा जिले के निवासी थे और सिंगरौली एवं पन्ना जिले के एक-एक लोग शामिल थे।
——–
एक्टिव केस 1799
जिले में वर्तमान में कोरोना के एक्टिव केस 1799 बचे हैं। हेल्थ बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को कोरोना से स्वस्थ होने वालों में 249 लोग शामिल रहे। अब तक 14052 लोग कोरोना को हराकर स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि अब तक कुल 15941 लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं।

—————-
पांच और मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि, दो संदिग्ध
रीवा। कोरोना महामारी के बाद ब्लैक फंगस की चपेट में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। हर दिन नए मामले सामने आ रहे हैं। जिन्हें उपचार के लिए सुपर स्पेशलिटी में बनाए गए विशेष वार्ड में रखा गया है। शुक्रवार को अस्पताल में उपचार के लिए आए पांच और मरीजों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। जबकि गांधी स्मारक में भर्ती दो अन्य मरीजों में इसके लक्षण होने की वजह से उन्हें संदिग्ध मानकर इलाज शुरू किया गया है। ब्लैक फंगस से जुड़े मामलों के नोडल अधिकारी डॉ. सुरेन्द्र सिंह मौपाची ने बताया कि अब १७ मरीजों का उपचार किया जा रहा है। जिनमें अलग-अलग लक्षण सामने आए हैं। इसमें कई ऐसे मरीज भी आए हैं जो यह बता रहे हैं कि उन्हें कोरोना हुआ था इसकी जानकारी नहीं थी। इसलिए माना जा रहा है कि संक्रमण हुआ होगा और वह सामान्य बुखार या सर्दी मानकर दवाएं लेते रहे होंगे। अथवा अन्य बीमारियों में दिए जाने वाली दवाओं का रिएक्शन भी हो सकता है। डॉ. मौपाची ने बताया कि इस पर अध्ययन किया जा रहा है। सबसे अधिक नाक, आंख और फेफड़े के साथ किडनी की समस्याओं से ग्रसित लोग सामने आए हैं। रीवा में अब तक इस महामारी से तीन लोगों की मौत हुई है। जबकि यहां पर २९ लोगों की रिपोर्ट में इंफेक्शन की पुष्टि हुई है। वर्तमान में १७ का उपचार किया जा रहा है और कई अन्य शहरों में उपचार कराने के लिए चले गए हैं।

from Patrika : India’s Leading Hindi News Portal https://ift.tt/2TeJaTz
https://ift.tt/3fGkria

close