Monday, November 29, 2021

*मध्य प्रदेश निकाय चुनाव में हो सकती है देरी! हाईकोर्ट ने आरक्षण प्रक्रिया पर लगाई रोक, जानिए पूरा मामला

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

 

मध्य प्रदेश निकाय चुनाव में हो सकती है देरी! हाईकोर्ट ने आरक्षण प्रक्रिया पर लगाई रोक, जानिए पूरा मामला

_ग्वालियरः हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने नगरीय निकाय चुनावों से लेकर बड़ा फैसला सुनाया है. ग्वालियर खंडपीठ ने नगरीय निकाय चुनावों की आरक्षण प्रक्रिया पर रोक लगा दी है. हाईकोर्ट में मेयर ,नगर पालिका और नगर परिषद अध्यक्ष पद पर की गई आरक्षण प्रक्रिया के खिलाफ याचिका दायर की गई थी. जिस पर सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया गया है. इस मामले की अगली सुनवाई अप्रैल में होगी._

_दरअसल, एक तरफ मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनावों की सुगबुगाहट तेज हो गई थी, लेकिन दूसरी तरफ निकाय चुनावों के लिए हुई आरक्षण की प्रक्रिया को  मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच में चुनौती दी गयी थी. जिसमें लंबी बहस के बाद कोर्ट ने शासन और याचिकाकर्ता के तर्क सुनने के बाद निकाय की आरक्षण प्रक्रिया पर रोक लगा दी है।_

_*निकाय चुनाव में आरक्षण व्यवस्था को दी गई थी चुनौती*_

_हाईकोर्ट में 10 दिसंबर 2020 निकाय चुनाव के लिए की गई आरक्षण की व्यवस्था को ये कहते हुए चुनौती दी गई थी कि इसमें अध्यक्ष पद का आरक्षण करने में रोटेशन पद्धति का पालन नहीं किया गया. याचिका में नगर पालिका और नगर परिषद के अध्यक्ष पद के लिए हुए आरक्षण को निरस्त करने की मांग की गई थी. याचिकाकर्ता मानवर्धन सिंह तोमर का कहना था कि अधिकांश नगर पालिका व नगर परिषद के अध्यक्ष पद लंबे समय से एक ही वर्ग के लिए आरक्षित किए जा रहे हैं.  इस वजह से दूसरे वर्ग के लोगों को अध्यक्ष के पद पर प्रतिनिधित्व करने का अवसर नहीं मिल पा रहा है._

_याचिकाकर्ता ने प्रदेश की 79 नगर पालिका और नगर परिषद के अलावा 2 मेयर सीट का हवाला भी याचिका में दिया था. जिसके बाद इस मामले पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट की डबल बेंच ने निकाय चुनाव की आरक्षण प्रक्रिया पर रोक लगा दी._

_*सरकार को रखना होगा अपना पक्ष*_

_हाईकोर्ट के फैसले के बाद अब अब इस याचिका पर सरकार को अपना विस्तृत पक्ष रखना है. इस मामले की अगली सुनवाई अब अप्रैल के महीने में होगी. आपको बता दें कि दो दिन पहले भी हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच ने ग्वालियर जिले की डबरा नगर पालिका और दतिया जिले की इंदरगढ़ नगर परिषद के अध्यक्ष पद के आरक्षण पर रोक लगा दी थी._

_*डबल बैंच ने सुनाया फैसला*_

_याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट की डबल बैंच ने सुनवाई के दौरान यह बात मानी कि 10 दिसंबर 2020 को नगरीय निकाय चुनाव के लिए आरक्षण की प्रक्रिया का जो नोटिफिकेशन जारी किया गया था. उसमें रोटेशन पद्धति का पालन नहीं किया गया था. जबकि आरक्षण की प्रक्रिया के दौरान रोटेशन पद्धति का पालन किया जाना जरूरी होता है. ऐसी स्थिति में इस मामले में जब तक कोई उचित फैसला नहीं आ जाता तब तक निकाय चुनाव के लिए की गई आरक्षण की प्रक्रिया पर रोक लगाई जाती है._

_बता दें कि राज्य निर्वाचन आयोग और राजनीतिक दल नगरीय निकाय चुनाव कराने की पूरी तैयारी में है. लेकिन जिस तरह से हाईकोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने निकाय चुनाव के लिए किए आरक्षण की प्रक्रिया पर रोक लगाई है, उससे निकाय चुनाव में देरी हो सकती है._

close