Tuesday, November 30, 2021

रीवा : थाने में गैंगरेप मामलेे की जांच डीआइजी स्तर के अधिकारी से कराने के निर्देश, आयोग ने लिया संज्ञान

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

 

रीवा : थाने में गैंगरेप मामलेे की जांच डीआइजी स्तर के अधिकारी से कराने के निर्देश, आयोग ने लिया संज्ञान

– राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने मुख्य सचिव और डीजीपी को भेजा नोटिस
– मीडिया में प्रकाशित खबरों के आधार पर लिया संज्ञान

रीवा। जिले के मनगवां थाने के लॉकअप में हत्या की आरोपी महिला कैदी के साथ पांच पुलिसकर्मियों के गैंगरेप के मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग ने प्रदेश के मुख्य सचिव, डीजीपी और डीजी जेल को नोटिस जारी किया है। आयोग ने इस पूरी घटना की जांच डीआइजी स्तर के अधिकारी से कराने के निर्देश दिए हैं। आयोग ने मीडिया की खबरों के आधार पर स्व संज्ञान लिया है।

खबर के मुताबिक महिला कैदी ने आरोप लगाया है कि बीते 9 से 20 मई 2020 तक उसे मनगवां थाने के लॉकअप में रखा गया था। जहां पर तत्कालीन एसडीओपी, थाना प्रभारी, दादा नाम का पुलिसकर्मी और दो अन्य ने थाने में ही गैंगरेप किया। उस दौरान मनिकवार चौकी की महिला एसआई को भी इस घटना की जानकारी थी, क्योंकि उसे पकड़कर थाने तक वही लाई थी और पूछताछ भी कर रही थी।

दो दिन पूर्व ही जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र पाण्डेय ने इस मामले का खुलासा मीडिया के सामने करते हुए दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग की थी। उन्होंने कहा कि इस मामले की न्यायिक जांच भी जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने बैठा दी है। वहीं पुलिस की ओर से आधिकारिक रूप से इस मामले में कुछ नहीं बोला जा रहा है। पुलिस की ओर से यह भी कहा जा रहा है कि उक्त युवती इसके पहले भी कई लोगों पर आरोप लगा चुकी है।

जिस तारीख के दौरान उसके साथ गैंगरेप का आरोप लगाया जा रहा है, वह घटना और गिरफ्तारी के पहले की बात कर रही है। पुलिस का कहना है कि जिस हत्या की घटना में युवती आरोपी है, वह घटना १६ मई को प्रकाश में आई थी, इसलिए उसके तर्क बेबुनियाद हैं। वहीं एसपी राकेश सिंह का कहना है कि इस संबंध में अभी जिला न्यायालय की ओर से कोई पत्र उन्हें नहीं मिला है।

close