Sunday, December 5, 2021

रीवा में खड़ी 4 बसें जलीं:ट्रांसपोर्ट नगर में रिपेयरिंग के लिए लाई गई थीं गाड़ियां, वेल्डिंग करते समय लगी आग

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

 

रीवा में खड़ी 4 बसें जलीं:ट्रांसपोर्ट नगर में रिपेयरिंग के लिए लाई गई थीं गाड़ियां, वेल्डिंग करते समय लगी आग

ट्रांसपोर्ट नगर में रिपेयरिंग की लिए खड़ी बसों में शनिवार दोपहर अचानक आग लग गई। हादसा दोपहर 3 बजे का है। देखते ही देखते 10 मिनट में चारों बसें धू-धू कर जल जलने लगीं। आनन-फानन में फायर ब्रिगेड को सूचना दी गई। मौके पर पहुंचे दमकल वाहन ने आधे घंटे में आग पर काबू पा लिया। घटना के वक्त बसों में वेल्डिंग का काम किया जा रहा था। फिलहाल आग लगने के कारणों का स्पष्ट पता नहीं चला है।

सिविल लाइन थाना प्रभारी निरीक्षक ओंकार तिवारी ने बताया, दोपहर करीब तीन बजे भीषण गर्मी के कारण लू चल रही थी। वहीं, ट्रांसपोर्ट नगर के यार्ड में रिपेयरिंग के लिए खड़ी बसों को मैकेनिक कार्य कर रहे थे। इस दौरान वेल्डिंग करते समय बस में अचानक चिंगारी उठी और आग धधकने लगी। देखते ही देखते कुछ ही मिनटों में आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। पुलिस और फायर ब्रिगेड को बुलाया गया।

1 करोड़ की बसें 10 मिनट में खाक
मैकेनिकों का दावा है, अचानक से आग ने ऐसा विकराल रूप धारण किया कि करीब एक करोड़ रुपए की चार बसें 10 मिनट में खाक हो गईं। आरोप है कि शहर में एक ही जगह फायर स्टेशन है। जो सिविल लाइन थाने के बगल में है, जबकि ट्रांसपोर्ट नगर के आसपास भी यदि फायर स्टेशन होता, तो जल्दी दमकल वाहन पहुंचकर आग को काबू कर सकता था।

दोपहर में आग जल्द हो जाती है विकराल
पुलिस का मानना है, आग अगर सुबह, शाम या रात में लगी होती, तो इतना विकराल रूप नहीं लेती। दोपहर में गर्मी के दिनों में अक्सर तेज हवाएं भी चलती है। ऐसे में जल्द ही आग फैलती है। ऊपर से बसों में लगा रैगजीन व कपड़ा आग फैलाने में मदद किया।

यार्ड में नहीं होता मानकों का पालन
जब प्रदेश में आगजनी होती है, तो नगर निगम का फायर विभाग दो चार दिन सक्रिय रहता है। फिर वे मूल काम छोड़कर दूसरे कार्यों में व्यस्त हो जाते है। सूत्रों का दावा है, शहर में ज्यादातर बसों के यार्ड में मानकों का पालन नहीं होता, जबकि प्राथमिक तौर पर बस के अंदर और मैकेनिकों के पास आग बुझाने के उपकरण होने चाहिए, लेकिन उनके पास कुछ नहीं था।

close