Monday, November 29, 2021

Jabalpur News जबलपुर संभाग के 1022 निजी स्कूलों ने नहीं दी फीस की जानकारी

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

[ad_1]

जबलपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
सुप्रीम कोर्ट और एमपी हाईकोर्नेट  सभी निजी स्कूलों को फीस की जानकारी ऑनलाइन अपलोड करने का आदेश दिया था। - Dainik Bhaskar

सुप्रीम कोर्ट और एमपी हाईकोर्नेट सभी निजी स्कूलों को फीस की जानकारी ऑनलाइन अपलोड करने का आदेश दिया था।

अभिभावकों की शिकायतों पर सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट ने सभी निजी स्कूलों को फीस सार्वजनिक करने का आदेश दिया था। साथ ही इसकी जानकारी ऑनलाइन जारी करना था। पर माय-लार्ड के आदेश पर भी जबलपुर संभाग के 1022 निजी स्कूलों ने फीस की जानकारी नहीं दी। ऐसे निजी स्कूलों पर गाज गिर सकती है।

कोविड काल में अधिकतर स्कूलों ने ऑनलाइन क्लास का संचालन किया। वहीं अब खुले भी हैं तो आधी क्षमता के साथ संचालित हो रहे हैं। ऐसे में हाईकोर्ट ने ट्यूशन फीस के अलावा अन्य शुल्क वसूलने पर रोक लगा दी थी। बावजूद कई निजी स्कूलों द्वारा पूरा फीस वसूला जा रहा था। अभिभावकों द्वारा इस मामले में कोर्ट का ध्यान नागरिक उपभोक्ता मंच के डॉ. पीजी नाजपांडे ने ध्यान आकृष्ट कराया था। इस पर हाईकोर्ट ने सभी निजी स्कूलों को फीस की जानकारी ऑनलाइन पोर्टल पर अपलोड करने का आदेश जारी किया था।

जबलपुर संभाग में बुरी हालत

हाईकोर्ट की तल्खी और सख्त आदेश के बावजूद जबलपुर संभाग में 5749 निजी स्कूल हैं। इसमें महज 45 प्रतिशत ने ही अपनी फीस की जानकारी ऑनलाइन की है। सबसे अधिक 1497 स्कूल जबलपुर में है। पर यहां भी 32 प्रतिशत स्कूलों ने ही फीस की जानकारी दी है। इसी तरह के हालात संभाग के अन्य जिलों की है। ऐसे निजी स्कूलों पर कार्रवाई की चेतावनी आयुक्त लोक शिक्षण विभाग द्वारा जारी की गई है।

लोक शिक्षण विभाग ने फीस की जानकारी ऑनलाइन न करने वाले निजी स्कूलों को भेजा नोटिस।

लोक शिक्षण विभाग ने फीस की जानकारी ऑनलाइन न करने वाले निजी स्कूलों को भेजा नोटिस।

निजी स्कूलों की मनमानी का नमूना

नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच के डॉ. पीजी नाजपांडे के मुताबिक निजी स्कूल सभी मदों के शुल्क को एक साथ ट्यूशन फीस में समाहित कर अभिभावकों से वसूल रहे हैं। अपनी चालबाजी छुपाने के उद्देश्य से वे ऑनलाइन फीस की जानकारी अपलोड करने से बच रहे हैं। वहीं आयुक्त लोक शिक्षण विभाग अभय वर्मा ने बताया कि सभी निजी स्कूलों को फीस की जानकारी ऑनलाइन अपलोड करना अनिवार्य है। अब तक जानकारी अपलोड न करने वाले निजी स्कूलों को नोटिस भेजा जा रहा है।

संभाग में इस तरह निजी स्कूलों ने जानकारी साझा की
जिले स्कूल जानकारी दी
जबलपुर 1497 475
कटनी 714 220
नरसिंहपुर 516 237
मंडला 297 150
सिवनी 633 321
डिंडोरी 292 72
बालाघाट 914 426
छिंदवाड़ा 886 436

सितंबर तक अपलोड करनी थी जानकारी

सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के सख्त आदेश के बाद प्रदेश में सभी निजी स्कूलों को एजुकेशन पोर्टल पर इसकी जानकारी सितंबर तक अपलोड करनी थी। बावजूद पूरे प्रदेश में ये हालात है कि कहीं भी 50 प्रतिशत से अधिक फीस की जानकारी अपलोड नहीं की गई है। इसका उद्देश्य था कि ऑनलाइन फीस जारी करने पर अभिभावक इसे चेक कर सकेंगे। अधिक फीस वसूले जाने पर वे संबंधित स्कूल प्रबंधन के खिलाफ जिला समिति में शिकायत कर सकेंगे।

खबरें और भी हैं…

Source link

close