Monday, October 25, 2021

नवीन शिक्षा नीति पर पहले वर्ष के पाठ्यक्रम को लेकर की चर्चा, कई सुझाव भी आए

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram
बैठक - Dainik Bhaskar

बैठक

अशासकीय महाविद्यालय प्राचार्य संघ देवी अहिल्या विवि इंदौर द्वारा नवीन शिक्षा नीति पर पहले वर्ष के पाठ्यक्रम के विश्लेषण, चर्चा को लेकर एक बैठक आयोजित की गई। बैठक में शामिल सदस्यों ने इसे लेकर अपने सुझाव भी दिए। अशासकीय महाविद्यालय प्राचार्य संघ देवी अहिल्या विवि इंदौर के अध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार झालानी ने बताया कि सोमवार शाम को आयोजित इस बैठक में 12 से ज्यादा बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा की गई है। इसके साथ ही बैठक में शामिल विभागाध्यक्ष, शिक्षाविद, कॉलेज प्राचार्यों ने अपने विचार व्यक्त किए और अपने सुझाव भी दिए।

बैठक में यह रहे मुख्य बिंदु

डॉ. राजीव कुमार झालानी के मुताबिक बैठक में इन मुख्य बिंदुओं पर चर्चा की और सुझाव भी दिए।

– बीबीए फॉरेन ट्रेड तथा बीसीए का सिलेबस अभी तक घोषित नहीं किया गया।

– अभी तक बीबीए फॉरेन ट्रेड देवी अहिल्या विवि द्वारा वाणिज्य संकाय का हिस्सा माना जाता था। इसका भविष्य अभी तक तय नहीं है।

– नई शिक्षा नीति का मूल उद्देश्य रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रम प्रारंभ करना है, जबकि नई शिक्षा नीति में बीकॉम के विभिन्न पाठ्यक्रमों में वोकेशनल कोर्स जैसे टैक्स प्रोसीजर, कम्प्यूटर एप्लीकेशन, फॉरेड ट्रेड आदि समाप्त कर दिए गए है। जिन्हें जारी रखा जाना चाहिए।

– बीकॉम ऑनर्स पाठ्यक्रम जो समाप्त कर दिया गया है, जिसे जारी रखा जाना चाहिए।

– स्वाध्यायी छात्रों के लिए हुई परीक्षा योजना अभी तक निर्धारित नहीं की गई है।

– बीबीए, बीसीए जैसे सेल्फ फाइनेंस और प्रोफेशनल पाठ्यक्रम वार्षिक पद्धति के स्थान पर सेमेस्टर पद्धति में ही जारी रखें जाए।

इसके साथ ही अन्य बिंदुओं पर चर्चा की गई है। मीटिंग में देवी अहिल्या विवि के कॉमर्स विभाग के डीन डॉ. कमलेश भंडारी, वरिष्ठ शिक्षाविद एवं पूर्व प्राचार्य डॉ. रमेश मंगल, शासन की सिलेबस कमेटी के सदस्य डॉ. राजेश वर्मा डॉ. गोविंद सिंघल, डॉ. संगीता भारुका एवं अशासकीय महाविद्यालयों के प्राचार्य उपस्थित रहे।

 

खबरें और भी हैं…

Source link

close