Monday, November 29, 2021

मोबाइल टीम ने घर-घर जाकर दस दिन में लगाए 12142 टीके

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram



Rewa News: टीके लगवाने वाले जब नहीं पहुंचे तब मोबाइल टीम से टीका पहुंचा उनके घर.
_____________________________________________

रीवा। कोरोना से लड़ने का सबसे बड़ा साधन कोरोना वैक्सीन टीकाकरण बन गया है। देश में केवल 10 माह की छोटी सी अवधि में 100 करोड़ से अधिक व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन के टीके लगाए गए हैं। इस उपलब्धि में अस्पतालों के साथ-साथ मोबाइल टीकाकरण टीम ने भी सराहनीय योगदान दिया है। रीवा में पिछले 10 दिनों में मोबाइल टीम द्वारा 12142 व्यक्तियों को टीके लगाए गए हैं। कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज का टीका लगाने के लिए प्रदेश के साथ-साथ रीवा जिले में भी विशेष प्रयास किए जा रहे हैं। छूटे हुए व्यक्तियों, दिव्यांगों तथा अशक्त बुजुर्गों को टीके लगाने के लिए जिले में 12 मोबाइल टीमें तैनात की गई हैं। इन टीमों के द्वारा शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में लगातार भ्रमण करके कोरोना वैक्सीन के टीके लगाए जा रहे हैं। प्रत्येक टीम में टीके लगाने के लिए दो चिकित्साकर्मी तथा पंजीयन के लिए दो कर्मी तैनात किए गए हैं। इनके अलावा भी चिकित्सा कर्मी भी टीम मे तैनात रहते हैं। मोबाइल टीम द्वारा घर-घर जाकर टीका लगाने से उन व्यक्तियों को वैक्सीन लगाने की सुविधा मिल गई है जो किसी कारणवश टीकाकरण केन्द्र जाने में असमर्थ हैं। मोबाइल टीम ने कई निराश्रित और दिव्यांगों को भी टीके लगाए हैं। मोबाइल टीम ने रेलवे स्टेशन तथा बस स्टैण्ड जाकर बाहर से आने वाले यात्रियों एवं मंदिरों में जाकर दर्शनार्थियों को टीके लगाए हैं।

इसके साथ-साथ टीम को ले जाने वाले वाहन में लगाए गए लाउड स्पीकर से लगातार टीकाकरण के संदेशों का प्रसारण करके एवं पंपलेट वितरित करके लोगों को टीकाकरण के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। मोबाइल टीम के टीकाकरण के लगातार प्रयासों से टीकाकरण में तेजी आई है। जो लोग किसी कारणवश टीकाकरण केन्द्र नहीं पहुंच पा रहे हैं उन तक टीका स्वयं पहुंच रहा है।

close