Monday, November 29, 2021

REWA-अबोध बच्ची के सिर से उठा मां का साया

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

रीवा। हैवानियत की निशानी बनकर संसार में आई अबोध बच्ची से मां का आंचल छिन गया। जन्म के बाद से उसे पिता का प्यार नसीब नहीं हुआ और अब उसे जिंदगी भर मां का आंचल नसीब नहीं होगा।

सप्ताह भर पूर्व जिंदा जलाई गई थी बलात्कार पीडि़ता
सप्ताह भर पूर्व घर में जिंदा जलाई गई बलात्कार पीडि़ता जिंदगी जंग हार गई। शुक्रवार की रात युवती ने अस्पताल में दमतोड़ दिया। उसके बयान पर के आधार पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला पहले ही दर्ज किया था जिसमें बलात्कार के आरोपी को ही संदिग्ध बनाया गया है। मऊगंज थाना क्षेत्र में रहने वाली बलात्कार पीडि़ता युवती 16 अप्रैल को संदिग्ध परिस्थितियों में आग से जल गई थी। घटना के समय परिजन बाहर थे तभी घर में आग लग गई और युवती बुरी तरह झुलस गई। उक्त युवती को इलाज के लिए संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां एक सप्ताह तक परिजन उसके स्वस्थ्य होने का इंतजार करतें रहे लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था।

आरोपी के खिलाफ दर्ज है हत्या के प्रयास का मामला
जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही युवती ने शुक्रवार की रात अस्पताल में दमतोड़ दिया। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। युवती ने अस्पताल में अपने मृत्युपूर्व बयान में उसने बलात्कार के आरोपी राजेश यादव निवासी नरैनी पहाड़ पर आग लगाने का संदेह जताया था जिसके आधार पर पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया लेकिन आरोपी की अभी तक गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। पुलिस ने शव का पेास्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों को सौंप दिया है। पोस्टमार्टम रिपौर्ट मिलने के बाद इस मामले में हत्या की धारा बढ़ाई जायेगी।

पांच साल पूर्व हुआ था बलात्कार, नाबालिक को बहला फुसलाकर ले गया था आरोपी
उक्त युवती के साथ पांच साल पूर्व बलात्कार किया था। वर्ष 2017 में युवती नाबालिक थी तभी उसे आरोपी बहला फुसलाकर अपने साथ ले गया था। उसके साथ लगातार बलात्कार करता रहा। बाद में पीडि़ता को बरामद कर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश कर दिया जहां उसको जेल भेज दिया गया। आरोपी न्यायालय से जमानत पर बाहर है। परिवार के मुताबिक उसने घटना के कुछ दिन पूर्व धमकियां भी दी थी।

मेरा क्या कसूर था…
इस पूरी घटना में पांच वर्षीय बच्ची अनाथ हो गई। बलात्कार की किशोरी गर्भवती हो गई थी जिसने बच्ची को जन्म दिया था। बलात्कार से जन्मी बच्ची पीडि़ता के साथ ही रहती थी जिसकी उम्र अब पांच वर्ष की है। बच्ची को जन्म के बाद ही बाप छाया नहीं मिली लेकिन अब इस घटना ने उसके सिर से मां का आंचल भी छीन लिया। बच्ची शायद ही पूंछ रही है कि आखिर मेरा क्या कसूर था जिसने उसे माता-पिता का प्यार भी नसीब नहीं होने दिया।

from Patrika : India’s Leading Hindi News Portal https://ift.tt/3nk8CSz
https://ift.tt/2QPKkn7

close