Monday, November 29, 2021

Rewa-घूसखोर सरकारी डॉक्टर को हुई ४ वर्ष के कठोर कारावास की सजा

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram
Rewa-घूसखोर सरकारी डॉक्टर को हुई ४ वर्ष के कठोर कारावास की सजा
रीवा- कार्यालय लोकायुक्त संभाग रीवा के अपराध क्र . २५८/१६ एवं विशेष प्रकरण क्रमांक ०१/१७ के आरोपी डॉ . बसंत लाल दीपांकर पिता श्री के.एल. दीपांकर उम्र ५५ वर्ष पदस्थापना प्रथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ढेरा मऊगंज स्थाई पता निवासी ग्राम पचामा , तहसील त्योंथर , जिला रीवा को मेडिकल रिपोर्ट पक्ष में बनाने के लिए रिश्वत लेने के अपराध का दोषी पाते हुए न्यायालय गिरीश दिक्षित विशेष न्यायाधीश ( लोकायुक्त ) रीवा ने भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा ७ के तहत रिश्वत माँगने के लिए ०३ वर्ष के कठोर कारावास एवं २००० रूपये के जुर्माने तथा रिश्वत लेने के लिए धारा १३ ( २ ) के तहत ०४ वर्ष के कठोर कारावास एवं २००० रूपये के जुर्माने से दंडित किया। अभियोजन मीडिया प्रभारी मोहम्मद अफजल खाँन – रीवा ने बताया कि शिकायतकर्ता बाबूलाल यादव पिता जगलाल यादव उम्र ३५ वर्ष निवासी ग्राम तेलिया , थाना हनुमना , जिला रीवा ने लोकायुक्त कार्यालय रीवा में शिकायत किया , कि दिनांक ३०,०७.१६ को उसके पडोसी मनोज पटेल , केशरी पटेल वगैरह से झगडा हुआ था। मारपीट के दौरान शिकायतकर्ता के हाथ और सिर में चोट आई थी जिसकी रिपोर्ट उसने थाना हनुमना में की थी ़। विपक्षी पार्टी मनोज पटेल वगैरह ने भी उसी थाने में रिपोर्ट किया था। हनुमना थाना पुलिस द्वारा शिकायतकर्ता और विपक्षी पार्टी मनोज पटेल वगै. की चोटो का मुलाहिजा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हनुमना जिला रीवा के आरोपी डॉ . बसंत लाल दीपांकर से कराया गया था। शिकायतकर्ता ने बताया कि आरोपी दीपांकर ने उसका मुलाहिजा करने के पश्चात उसके बायें हाथ का एक्सरे भी कराया और आरोपी डॉक्टर ने मुलाहिजा एवं एक्सरे रिपोर्ट मेरे पक्ष में बनाकर देने के लिए और विपक्षी का पार्टी का डॉक्टरी रिपोर्ट कम करने के लिए पाँच हजार रुपये रिश्वत की माँग की जिसमें से वह ३५०० रू . मुझसे ले चुका है तथा १५०० रू की और माँग कर रहा है । मैं डॉक्टर दीपांकर को रिश्वत नहीं देना चाहता हूँ बल्कि रिश्वत देते हुए पकडवाना चाहता हूँ । लोकायुक्त पुलिस ने शिकायत का सत्यापन कराया शिकायत सही पाये जाने पर लोकायुक्त पुलिस ने दिनांक ० ९ .०८.२०१६ को ट्रैप कार्यवाही आयोजित की । जैसे ही आरोपी डॉक्टर ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हनुमना के अपने शासकीय आवास में शिकायतकर्ता से रिश्वत के १५०० रू . लिये वैसे ही लोकायुक्त की टीम ने आरोपी डॉक्टर को रंगे हाथ रिश्वत लेते धर दबोचा। लोकायुक्त पुलिस ने विवेचना उपरांत अभियोग पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया। जिला अभियोजन अधिकारी – संजीव श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में विचारण के दौरान शासन की ओर से पैरवी करते हुए विशेष लोक अभियोजक लोकायुक्त – रीवा – सचिन द्विवेदी द्वारा मामले में प्रस्तुत किये गये साक्ष्यो एवं तर्कों से सहमत होते हुए न्यायालय – गिरीश दीक्षित , विशेष न्यायाधीश लोकायुक्त जिला -रीवा ने आरोपी डॉ . बसंत लाल दीपांकर को उपर्युक्त सजा से दंडित किया । विशेष – आरोपी डॉक्टर रिश्वत में लिए रूपयों को उधार के रूपये बता रहा था। आरोपी का कहना था कि बाबूलाल का रीवा में ईलाज कराया गया था। ईलाज के लिए बाबूलाल के पास रूपये नहीं थे तब आरोपी ने बाबूलाल के बुआ के लडके रमाशंकर यादव को ईलाज के लिए रूपये दिये थे। वहीं रूपये आरोपी बाबूलाल से माँग रहा था, न्यायालय ने आरोपी के उक्त बचाव को अस्वीकार करते हुए पाया कि वास्तव में ऐसा उधार संबंधी कोई लेनदेन आरोपी एवं शिकायतकर्ता के बीच नहीं हुआ था।
close