Sunday, December 5, 2021

Rewa News:विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने विश्वविद्यालय में कर्मचारियों को किया संबोधित

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

[ad_1]

-विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम ने विश्वविद्यालय में कर्मचारियों को किया संबोधित

रीवा। अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय सभागार में आयोजित समारोह में विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे। जहां पर उन्होंने विश्वविद्यालय में उच्च गुणवत्ता की बहुआयामी शिक्षा से छात्रों का भविष्य संवारने पर जोर देते हुए कहा कि इस विश्वविद्यालय का अपना गौरवशाली इतिहास रहा है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में अध्यनरत युवा नई तकनीक के उपयोग के लिये किसी प्रकार का भ्रम न पाले। वे फेस बुक की जगह फेस टू फेस पर अधिक विश्वास करें और प्राध्यापकों से सीधे मिलकर अपनी शंका का समाधान करें। गलत के खिलाफ जो खड़ा हो जाय वही युवा है।
विधानसभा अध्यक्ष ने विश्वविद्यालय में कर्मचारी संगठनों का नाम लिए बिना कहा कि संगठन बनाकर लोग अपना हित देखते हैं, जबकि संस्था के प्रबंधन और इन संगठनों की जवाबदेही है कि वह कर्मचारियों के हितों को लेकर काम करें। इससे छात्रों को भी सुविधाएं मिल सकेंगी। साथ ही कहा कि कर्मचारियों के हितों पर कुठाराघात नही होगा, ऐसा प्रयास करेंगे। कर्मचारियों का हित बना रहे इसलिये संगठन चलाये जाते है।
कुलपति प्रो. राजकुमार आचार्य ने कहा कि तीन वर्ष के अंदर सभी प्राध्यापकों एवं कर्मचारियों के सहयोग से इस विश्वविद्यालय को उच्च स्तरीय शिक्षा की गुणवत्ता बनायी जायेगी। कार्यक्रम का संचालन प्रो. दिनेश कुशवाहा ने किया। इस अवसर पर कुल सचिव सुरेन्द्र सिंह परिहार, सुरेन्द्र सिंह, रामनरेश तिवारी निष्ठुर, अवधेश तिवारी, पुष्पेन्द्र गौतम, प्रो. महेश श्रीवास्तव, प्रो. सुनील तिवारी, प्रो. अंजली श्रीवास्तव, बुद्धसेन पटेल, सुरेन्द्र सिंह, पूर्व कर्मचारी संघ अध्यक्ष संतोष सिंह सेंगर, रमेश मिश्र, पुष्पराज सिंह राधेश्याम साहू सहित अन्य मौजूद रहे।
———————
कर्मचारियों ने मांगों का ज्ञापन सौंपा
विधानसभा अध्यक्ष को विश्वविद्यालय के अजाक्स कर्मचारी संघ की ओर से दो सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें बैकलॉग के खाली पदों को भरने और रुकी हुई कर्मचारियों की वेतनवृद्धि बहाल करने आदि की मांग को शामिल किया गया है। अजाक्स के अध्यक्ष रामसुजान साकेत, लालमणि साकेत, राधेश्याम, रामकृपाल, राजराखन, रामश्रय, रामसजीवन, रामसिया, महेश वर्मा सहित अन्य कर्मचारी शामिल रहे।



[ad_2]

Source link

close