Sunday, December 5, 2021

Rewa News:- प्रशासनिक उदासीनता से आहत थे पटवारी श्रीनिवास और लाल स्याही में लिखा, मैं परेशान व्यक्ति हूं

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

जुलाई से अब तक नहीं मिला या वेतन

पुलिस ने मर्ग कायम कर शुरू किया जांच

महोदय, जुलाई, अगस्त और सितंबर माह का वेतन नहीं मिला। अधिकारियों से आरजू मिन्नत करके थक चुका हूं। कहीं से कोई उम्मीद नहीं दिखी। इसलिए लाल स्याही से पत्र लिख रहा हूं। मैं परेशान व्यक्ति हूं। उक्त मजमून •खदकुशी करने वाले पटवारी श्रीनिवास माझी के सुसाइड नोट के अंश हैं, जिसे पटवारी ने आत्महत्या से कुछ क्षण पहले लिखा है। पत्र बताता है कि राजस्व विभाग के आला अधिकारियों की उदासीनता से पटवारी माझी इस कदर आहत थे कि उन्हें मौत को गले लगाना पड़ा।

त्योंथर तहसील के बड़ागांव मझगवां हल्का में पदस्थ पटवारी श्रीनिवास माझी 48 वर्ष निवासी इटौरी थाना जवा ने सोमवार मंगलवार की दरमियानी रात अज्ञात जहर निगल लिया। सुबह इसकी जानकारी परिजनों को हुई, लेकिन तब तक पटवारी की मौत हो चुकी थी। परिजनों ने मौके से दो पन्ने का सुसाइड नोट मिला। जिसमें पटवारी ने आत्महत्या करने के कारणों को लिखा है। • सुसाइड नोट के अनुसार पटवारी ने आत्महत्या प्रशासनिक उदासीनता और प्रताड़ना की वजह से किया है। जिसे लेकर परिजन काफी आक्रोशित थे। कार्रवाई करने मौके पर पहुंची जवा पुलिस का विरोध करते हुए इटौरी मोड़ में चकाजाम कर दिया। जाम की सूचना मिलते ही मौके पर एसडीएम संजीव पाण्डेय, एसडीओपी त्योंथर समरजीत सिंह समेत अन्य प्रशासनिक और पुलिस के अधिकारी पहुंच गए। करीब 6 घंटे तक चले मान मन्नौवल के बाद परिजनों का आक्रोश शांत हुआ और वे पीएम कराने के लिए राजी हुए। पुलिस ने पंचनामा कार्रवाई करते हुए शव का पोस्टमार्टम कराया और परिजनों को सौंप दिया। पुलिस का कहना है कि मामले में मर्ग कायम कर जांच की जा रही है। जांच में जो तथ्य सामने आएंगे, उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

सुसाइड नोट में आत्महत्या के दो कारण

मौके से जो सुसाइड नोट मिला है, उसमें पटवारी ने आत्महत्या करने के दो कारणों का जिक्र किया है। जिसमें पहला जवा थाना की पुलिस पर एफआईआर दर्ज न करने का आरोप लगाते हुए कहा गया है कि दुर्गा विसर्जन के दौरान बसोर बस्ती के लोगों ने उसके साथ मारपीट किया था। जिसकी रिपोर्ट दर्ज कराने उसकी पत्नी अनारकली थाना पहुंची थी, जहां से पुलिस ने उसे भगा दिया था। जिससे परिवार काफी दुखी है। वहीं दूसरे कारण में पटवारी ने लिखा है कि जुलाई माह से अब तक उसे वेतन नहीं मिला है। निलंबन माह का 50 प्रतिशत वेतनमान दिलाया जाए। अधिकारियों से कह कह कर थक गया हूं और प्रताड़ित हूं। जिससे मैं आत्महत्या कर रहा हूं। इसका जिम्मेदार मेरे परिवार को न ठहराया जाए।

6 घंटे बाद खुला जाम

पटवारी की खुदकुशी के बाद आक्रोशित परिजनों ने इटौरी मोड को सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक जाम रखा। अंततः त्योंथर एसडीएम संजीव पाण्डेय की समझाइश के बाद परिजन मानें। इसके बाद जवा अस्पताल में पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है। मृतक पटवारी के अंतिम संस्कार के समय जवा थाना प्रभारी कन्हैया सिंह, डभौरा थाना प्रभारी डीके दाहिया, पनवार हीरा सिंह और सोहागी थाना प्रभारी अभिषेक पटेल आदि मौके पर मौजूद रहे।

आनन-फानन में शुरू हुआ वेतन जारी करने का सिलसिला

पटवारी श्रीनिवास की मौत के बाद राजस्व अमला हरकत में आ गया। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर तहसीलदार पटवारियों का वेतन जारी करने का सिलसिला शुरू कर दिए। सूत्रों ने बताया है कि पटवारी श्रीनिवास की जान जाने के बाद सितंबर माह का वेतन ट्रेजरी से जारी कर दिया गया है। हालांकि अगस्त में हड़ताल होने की वजह से वेतन नहीं जारी किया गया है।

तीन दिन में एरियर का भुगतान नहीं हुआ तो करेंगे हड़ताल

उक्त घटना को लेकर त्योंथर तहसील पटवारी संघ के अध्यक्ष नागेन्द्र साहू ने कहा है कि संघ पीड़ित परिवार के साथ है। दिवंगत पटवारी के सभी तरह के वेतनमान का एरियर भुगतान करने के लिए एसडीएम के माध्यम से कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा गया है। यदि तीन दिन के भीतर दिवंगत पटवारी समेत अन्य पटवारियों का वेतन नहीं जारी किया गया तो संघ हड़ताल करेगा और हड़ताल जब तक जारी रहेगी, जब तक पटवारियों की मांग पूरी नहीं हो जाती।

परिवार को दी गई 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता

त्योंथर तहसील में पदस्थ पटवारी श्रीनिवास मांझी का गत दिवस दुखद निधन हो गया। घटना की सूचना मिलते ही एसडीएम त्योंथर संजीव पाण्डेय पटवारी के घर पहुंचकर पीड़ित परिवार को सांत्वना दी। दिवंगत पटवारी की पत्नी अनारकली मांझी को 50 हजार रुपए की अनुग्रह सहायता राशि प्रदान की गई। कलेक्टर डॉ. इलैयाराजा टी ने पटवारी के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कहा है कि पूरा राजस्व प्रशासन दुख की इस घड़ी में परिवार के साथ है। पीड़ित परिवार को हर संभव सहायता दी जायेगी। ईश्वर परिवार को यह अपार दुख सहने की शक्ति प्रदान करे।

close