Monday, October 25, 2021

Sanitizer will shower on people on Dussehra, will move 40 feet back and forth | 15 फीट के इंजेक्शन से होगा दहन; दशहरा में आने वाले लोगों को रावण 100 फीट तक करेगा सैनिटाइज

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

 

INDORE

इंदौर में अजब-गजब रावण तैयार हो रहे हैं। किसी रावण को 15 फीट लंबे इंजेक्शन से दहन किया जाएगा तो कोई रावण 100 फीट तक सैनिटाइज करेगा। यह पूरी थीम कोरोना में लोगों को वैक्सीन लगवाने और सतर्क रहने के मैसेज देने के लिए तैयार किया गया है। जानिए अजब-गजब रावण के बारे में …

पहला: 21 फीट के रावण का इंजेक्शन से होगा दहन
21 फीट ऊंचे कोरोना रूपी रावण तैयार किया गया है। जिसका दहन 15 फीट लंबे इंजेक्शन रूपी मशाल (बाण) से किया जाएगा। इस रावण का निर्माण संस्था सूर्यमंच द्वारा किया गया है। संस्था के संयोजक सन्नी पठारे ने बताया कि इस वर्ष संस्था ने कोरोना का सामाजिक बुराई माना है, जो कई लोगों का जीवन लील गया है। साथ ही इस महामारी ने संपूर्ण विश्व को अस्त व्यस्त कर दिया है। इसलिए इस वर्ष कोरोना रूपी रावण तैयार किया गया है और वैक्सीन रूपी मशाल( बाण ) से उसका दहन पूर्व राज्यमंत्री महामंडलेश्वर राधे राधे बाबा द्वारा किया जाएगा।

रावण के पुतले को कोरोना का रूप दिया गया।

रावण के पुतले को कोरोना का रूप दिया गया।

उन्होंने बताया कि इस बार रावण दहन के इस आयोजन को संस्था सूर्यमंच के फेसबुक पेज पर लाइव दिखाया जाएगा। इसके साथ ही जनता से भी निवेदन किया गया है कि वे कार्यक्रम स्थल पर भीड़ एकत्रित ना कर ऑनलाइन इसका सीधा प्रसारण देखे। उन्होंने बताया हिंदू रीति नीति का पालन करते हुए यहां राम जी, लक्ष्मण जी, हनुमान जी का भ्रमण भी होगा। साथ ही खंडवा के गायक दुर्गेश राजपूत द्वारा भजनों की प्रस्तुति भी दी जाएगी। जबकि मुंबई के कलाकारों द्वारा धार्मिक नृत्यों की प्रस्तुति भी दी जाएगी। रावण दहन के बाद हिंदू नीति के अनुसार 151 किलो गिलकी के भजियों का प्रसाद रूपी वितरण भी किया जाएगा।

1 लाख रुपए का खर्च में तैयार हुआ रावण
संयोजक पठारे ने बताया कि रावण बनाने में करीब 1 लाख रुपए का खर्च आया है। संस्था के इंदौर के 25 सदस्यों ने मिलकर ही राशि एकत्रित की। रावण तैयार करने में 11 बांस की गठरी, 15 मीटर कपड़ा, 10 हजार के पटाखे और 5 से ज्यादा मजदूरों ने इस रावण का निर्माण किया है। वहीं दशहरा के दिन ही 15 फीट लंबी वैक्सीन रूपी मशाल (बाण) तैयार किया जाएगी। जिसमें दोनों तरफ को-वैक्सीन और कोविशील्ड लिखा जाएगा। इस कोरोना रूपी रावण का दहन श्री कृष्ण टॉकिज के सामने दशहरा पर रात 9 बजे किया जाएगा। इससे यह संदेश दिया जाएगा कि कोरोना को हराना है तो वैक्सीन जरूरी है। इसके साथ ही फायर ब्रिगेड के कर्मचारी भी यहां तैनात रहेंगे।

पहले इस तरह के रावण बना चुके हैं
इसके पहले भी संस्था आशाराम बापू, कसाब, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ रूपी रावण बनाकर उनका दहन कर चुकी हैं। इस बार संस्था द्वारा सामाजिक बुराई रूपी कोरोना का रावण तैयार किया है।

दूसरा: सैनिटाइजर करने वाला रावण

इंदौर के उषागंज छावनी मैदान में सैनिटाइज करने वाला रावण तैयार हो रहा है। यह रावण दशहरे के दिन लिए यहां आने वाले लोगों पर करीब 100 फीट दूर तक सैनिटाइजर की बौछार करेगा। एकता सहयोग समिति इसे 41 फीट के रावण को तैयार कर रही है। बुधवार तक यह मैदान में खड़ा नजर आएगा। इसकी खास बात यह है कि इसे मोहल्ले के लोग ही मिलकर तैयार कर रहे है। इसे हिंदु-मुस्लिम दोनों मिलकर तैयार कर रहे हैं। यह रावण पैर से लेकर धड़ तक लोहे का रहेगा, जबकि इसका चेहरा प्लाई से तैयार किया जाएगा।

दो प्रकार के सैनिटाइजर की करेगा बौछार

यह सैनिटाइजर की बौछार करीब 100 फीट दूर तक जाएगी और लोगों को सैनिटाइज करेगा। समिति के आयोजक किशोर मीणा ने बताया कि यह रावण पूरी तरह से वाटर प्रूफ भी रहेगा। अगर बारिश आती भी है तो रावण को जलने में कोई परेशानी नहीं होगी। दो प्रकार से सैनिटाइजर भी समिति द्वारा ही तैयार किए जा रहे है। जिसमें एक अल्कोहल मिला तो दूसरा नगर निगम द्वारा इस्तेमाल किया जाना वाला सैनिटाइजर रहेगा। वहीं यह रावण चलित होगा। जो करीब 40 फीट आगे पीछे होगा और लोगों पर सैनिटाइजर डालेगा। रावण को आगे पीछे करने के लिए लोहे की ट्राली और चार बैरिंग का इस्तेमाल किया जा रहा है।

सैनिटाइजर करने वाला तैयार रावण।

सैनिटाइजर करने वाला तैयार रावण।

सैनिटाइजर के लिए अलग से डाली जा रही लाइन

उन्होंने बताया सैनिटाइजर की बौछार करने के लिए मैदान में ही अलग से लाइन डाली है, जिसे टंकी से जोड़ा जाएगा। टंकी से होते हुए सैनिटाइजर पाइप लाइन के माध्यम से रावण के हाथ तक जाएगा और रावण सैनिटाइजर की बौछार लोगों पर करेगा। दशहरा के दिन करीब दो से तीन घंटे तक चलने वाले इस आयोजन में करीब 10 हजार लीटर सैनिटाइजर का इस्तेमाल किया जाएगा।

रावण तैयार करने में इन चीजों का होगा इस्तेमाल

– 2 टन लोहा

– 2 हजार घास की पिंडी

– 20 हजार से ज्यादा के पटाखे

– 150 मीटर दो रंग का पकड़ा

– 150 मीटर प्लास्टिक (वाटर प्रूफ बनाने के लिए)

– 150 मीटर टाट

– प्लाई से तैयार होगा रावण का चेहरा

– 35 से 40 हजार रुपए का आएगा खर्च

– 12 से 15 मोहल्ले के लोग काम कर रहे है

– समिति के 15 सदस्य ही अपने पैसों से तैयार करते है रावण

पहले भी बना चुके है इस प्रकार के रावण

आयोजकों की माने तो इसके पहले भी चलित रावण तैयार किए है। जिसमें सीता हरण, लिफ्ट वाला, इंद्रजाल वाला, भस्म कंगन वाला, स्वर्ण कवच वाला रावण बनाए जा चुके है। आयोजक मीणा के मुताबिक खास बात यह है कि समिति द्वारा तैयार किए जाने वाले रा‌वण में मोहल्ले के लोग ही हिंदु मुस्लिम एकता का परिचय देते है। इसमें बनाने में मोहम्मद आजम खान, जुबेर खान, लवकुश मीणा, सुमित तलरेजा, अतुल गोयल सहित अन्य लोग मिलकर इस रावण का निर्माण करते हैं।

 

खबरें और भी हैं…

Source link

close