Monday, November 29, 2021

Ujjain: कल वो दिन जब दिन-रात होंगे बराबर, कल से ही सूर्य दक्षिणी गोलार्ध में आएगा, इसके बाद छोटे होने लगेंगे दिन

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

[ad_1]

उज्जैन के जंतर-मंतर यानी वेधशाला में स्थित नाड़ी वलय यंत्र। - Dainik Bhaskar

उज्जैन के जंतर-मंतर यानी वेधशाला में स्थित नाड़ी वलय यंत्र।

काल गणना की दृष्टि से पूरे विश्व में उज्जैन का खास महत्व है। यहां लगे यंत्रों के माध्यम से काल गणना के अलावा ग्रहों की चाल, सूर्य व चंद्र ग्रहण, सूर्य की चाल से समय की गणना की जाती है।

कल यानी बुधवार 23 सितंबर को दिन व रात बराबर होंगे। दरअसल कल से सूर्य उत्तरी से दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश करेगा। चूंकि कल दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश का पहला दिन है इसलिए दिन व रात बराबर समय यानी 12-12 घंटे के होंगे। इसके बाद गुरुवार से दिन छोटे और रातें बड़ी होने लगेंगी। आज के दिन नवग्रहों में प्रमुख ग्रह सूर्य विषुवत रेखा पर लंबवत रहता है। इसे शरद संपात कहते हैं।

उज्जैन में जीवाजी वेधशाला के अधीक्षक डॉ. राजेंद्र प्रकाश गुप्त ने बताया कि सूर्य के दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश के कारण अब उत्तरी गोलार्ध में दिन छोटे और रातें बड़ी होने लगेंगी। यह क्रम 22 दिसंबर तक चलेगा। गुप्त ने बताया कि सूर्य के दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश के बाद यहां सूर्य की किरणों की तीव्रता कम होने लगेगी। इससे शरद ऋतु का प्रारंभ माना जाता है।

उज्जैन में दिखेगा लाइव –
उज्जैन स्थित वेधशाला में सूर्य के दक्षिणी गोलार्ध में प्रवेश की खगोलीय घटना को शंकु यंत्र और नाड़ी वलय यंत्र के माध्यम से प्रत्यक्ष रूप से देखा जा सकेगा। कल शंकु की छाया पूरे दिन विषुवत रेखा पर चलती हुई दिखाई देगी। डॉ. गुप्त ने बताया इस खगोलीय घटना को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सुबह 11 से शाम 5 बजे तक वेधशाला में दिखाया जाएगा।

ऐसे समझ सकेंगे अंतर –
23 सितंबर के पूर्व नाड़ी वलय यंत्र के उत्तरी गोल भाग पर धूप थी। यह धूप 22 मार्च से 22 सितंबर तक रहती है। 23 सितंबर को उत्तरी व दक्षिणी गोलभाग पर धूप नहीं होगी। जबकि 24 सितंबर से अगले छह माह यानी 20 मार्च तक नाड़ी वलय यंत्र के दक्षिणी गोल पर धूप रहेगी। इस तरह से सूर्य के गोलार्ध परिवर्तन को हम नाड़ी वलय यंत्र के माध्यम से देख सकेंगे।

 

खबरें और भी हैं…

Source link

close