Monday, October 25, 2021

रीवा कलेक्ट्रेट में शिकायत लेकर पहुंचे ग्रामीणों को अधिकारी बता कर धमकाना पड़ा भारी

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on telegram
Telegram

कलेक्टर के निर्देश पर धमकाने वाले को पकड़कर ले गई पुलिस

रीवा। गांव में खाद्यान्न नहीं मिलने की शिकायत लेकर पहुंचे ग्रामीणों को एक व्यक्ति ने कलेक्ट्रेट से गाली-गलौज कर भगा दिया। जिसके बाद हंगामा खड़ा हो गया। ग्रामीणों की शिकायत पर कलेक्टर ने सिविल लाइन थाने की पुलिस बुलाकर संबंधित व्यक्ति पर कार्रवाई के लिए निर्देशित किया।

इस मामले को लेकर काफी देर तक हंगामा मचा रहा। पुलिस धमकाने वाले व्यक्ति को लेकर सिविल लाइन थाने गई, जहां पर उससे पूछताछ की गई। त्योंथर क्षेत्र के गंगतीरा गांव से आए ग्रामीणों ने पहले तो इस बात को लेकर हंगामा मचाया कि उन्हें कलेक्ट्रेट के किसी कर्मचारी की ओर से गाली दी गई है। जब यह पता चला कि उक्त आदमी कलेक्ट्रेट का कर्मचारी नहीं है, तब लोग शांत हुए।

पुलिस ने ग्रामीणों को बताया कि जिस व्यक्ति ने उनके साथ बदसलूकी की है, उसके विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है। काफी देर तक सिविल लाइन थाने का भी ग्रामीणों ने घेराव किया था। इस दौरान बसपा के जिला अध्यक्ष अमित कर्नल ने भी पहुंचकर ग्रामीणों के साथ की गई बदसलूकी पर नाराजगी जाहिर की और सख्त कार्रवाई की मांग उठाई। कलेक्ट्रेट में जब संबंधित व्यक्ति ग्रामीणों को धमका रहा था, उस दौरान लोगों ने पूछा तो अपना नाम अनुज सिंह बता रहा था। पुलिस के सामने भी वह तरह-तरह की बयानबाजी करता रहा। पहले खुद को एसडीएम बताया फिर पत्रकार बताया। जब सख्ती से पूछताछ की गई तो अपनी गलती को स्वीकार किया। उक्त व्यक्ति रायपुर कर्चुलियान क्षेत्र का निवासी है। संबंधित के विरुद्ध धारा १५१ के तहत कार्रवाई की गई है।

छह महीने से ग्रामीणों को राशन नहीं मिला

कलेक्ट्रेट कार्यालय में शिकायत लेकर पहुंचे गंगतीरा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें बीते करीब छह महीने से खाद्यान्न नहीं मिल रहा है। सेल्समैन ने हस्ताक्षर कराया था लेकिन अब तक खाद्यान्न नहीं दे रहा है। समरजीत सोनकर, राजेश कोरी, अशोक, पुष्पेन्द्र, इन्द्रभान, राजेन्द्र, शोभनाथ, सुखलाल, रामपाल आदि ने बताया कि वह सरपंच एवं कोटेदार के पास लगातार यह समस्या लेकर जाते रहे हैं लेकिन अब तक खाद्यान्न देने के लिए कोई आश्वासन नहीं मिल रहा है। बल्कि कहा जाता है कि जहां शिकायत कर सको कर दो।

close